Ganga Aur Dev by Ashish Kumar

उस समय देव की उम्र कुछ आठ बरस की रही होगी। हाँ! मुझे ठीक-2 याद आता है।
‘‘लोग कैसे शादी कर लेते हैं?’’ देव बड़े आष्चर्य से मुझसे पूछता।
‘‘…..आखिर कैसे कोई लड़का किसी लड़की को सारी ज़िन्दगी झेलता रहता है?’’
‘‘…..आखिर कैसे वो उस लड़की को सारी ज़िन्दगी देख-2 कर भी बोर नहीं होता?’’
‘‘…..आखिर कैसे वो उस लड़की के साथ पूरी ज़िन्दगी काट देता है?’’ वो बड़ी बेचैनी से मुझसे पूछता था जब पड़ोस में किसी लड़के की शादी होती थी और नई वधू का घर में प्रवेष होता था।

Read More